Bhartiyans

Menu

“पूर्ण आयर्न-मैन’ स्पर्धा पूरी करने वाली, पुणे की पहली महिला

Date : 10 Nov 2016

Total View : 331

भारतकी सलोनी पठानिया दुनिया की सबसे कठिन एक दिवसीय प्रतियोगिता “पूर्ण आयर्न-मैन’ स्पर्धा पूरी करने वाली, पुणे की पहली महिला बनी!


सारांश

पूर्ण आयर्न मैन प्रतियोगिता में प्रतिभागियों को 4 किमी तैराकी, 180 किमी साइकिलिंग, 42 किमी दौड, बगैर किसी विराम के 17 घंटोंमें पूरा करना पडता है। स्वीडन में संपन्न इस प्रतियोगिता को सलोनी ने 13 घंटे 56 मिनट में पूरा किया। सलोनी पठानिया ने भारतीय महिलाओं के आगे शारीरिक फिटनेस का एक उत्साहवर्धक मानदंड



सविस्तर बातमी

4 किमी तैराकी, 180 किमी साइकिलिंग, 42 किमी दौड, बगैर किसी विराम के और ये भी केवल 13 घंटे 56 मिनट में.... 
भारतकी सलोनी पठानिया दुनिया की सबसे कठिन एक दिवसीय प्रतियोगिता “पूर्ण आयर्न-मैन’ स्पर्धा पूरी करने वाली, पुणे की पहली महिला बनी! 


मई 2015 में पुणे की सलोनी पठानिया ने हवाई में आयोजित ‘आधी आयर्न मैन’ प्रतियोगिता पूरी की थी। 

इसमें प्रतिभागियों को 1.9 किमी तैराकी, 90 किमी साइकिलिंग और 21.1 किमी दौड आठ घंटोंमें पूरी करनी होती है।

इसके बाद उन्होंने अपने लिए ‘पूर्ण आयर्न मैन’ प्रतियोगिता का लक्ष्य निर्धारित किया था।

पूर्ण आयर्न मैन प्रतियोगिता में प्रतिभागियों को 4 किमी तैराकी, 180 किमी साइकिलिंग, 42 किमी दौड, बगैर किसी विराम के 17 घंटोंमें पूरा करना पडता है।

स्वीडन में संपन्न इस प्रतियोगिता को सलोनी ने 13 घंटे 56 मिनट में पूरा किया। 
इसे पूरा करने के बाद वे हाल ही में पुणे लौट आई हैं।

इस उपलब्धि से पठानिया पूर्ण आयर्न मैन प्रतियोगिता, जो कि दुनिया की सबसे कठिन एक दिवसीय प्रतियोगिता मानी जाती है, उसे पूरी करने वाली पुणे की पहली महिला बन चुकी है।

तीस साल की सलोनी पठानिया एक पूर्णकालिक नौकरीपेशा महिला और एक उत्साही शौकिया ट्रायथलैट स्पर्धक है।

खेलों के बारे में अपनी रुचि के बारे में उन्होंने कहा, “शालेय जीवन में मैंने खेलकूद में बढ-चढ कर हिस्सा लिया, लेकिन कालेज के दौरान एक दुर्घटना की वजह से मेरे घुटने का आप्रेशन कराना पड़ा। इससे मेरी शारीरिक गतिविधियों में खासी दिक्कत पेश आई। 2013 के मध्य में मुझे अहसास हुआ कि मैं शारीरिक चुस्ती गँवा चुकी थी, और मैंने अपने पापा के साथ, जो कि नियमित व्यायाम के हिमायती है, सुबह टहलने के लिए जाना शुरू किया। जल्द ही मैंने दौड़ना शुरू किया और मेरी पहली अथक 10 किमी दौड़ अक्टूबर 2013 में पूरी की। इसके कुछ महीनों बाद मैंने खुद को पुणे की एंड्यूरो3 2014 के लिए तैयारी करता पाया।”

एंड्यूरो3 भारत की सबसे बड़ी सामुहिक साहसिक प्रतियोगिता है। इसमें प्रतिभागियों के शारीरिक और मानसिक दमखम की ट्रेकिंग, पहाडी साईकिल, कयाकिंग, नदी पार करना और बंदूक चलाने जैसे विविध साहसिक खेलों के द्वारा परीक्षा की जाती है।

आप ने अपनी पहली ट्राएथलौन - तीन खेल प्रतियोगिता 2013 में पूरी की, और उसके बाद कई ऐसी प्रतियोगिताओं में भाग लिया।

“किसी भी खेल में सक्रिय होने के बाद आप निरंतर अपनी क्षमता के विकास के लिए प्रयासरत रहते हैं, मैंने 2005 में हाफ आयर्न मैन के लिए तैयारी करनी शुरू कर दी।” सलोनी ने कहा।

अब तक 13 आयर्न मैन प्रतियोगिताओं को पूरा करने वाले पुणे के श्री कौस्तुभ राडकर से आप ने तालीम हासिल की।

दिन के नौ घंटे ब्रिज2टेक कन्सल्टन्सी नामक कंपनी में पूर्णकालिक नौकरी करने के बाद इस प्रतियोगिता के लिए तैयारी करना एक कठिन चुनौती थी।

सप्ताह के कामकाजी दिनों में सुबह काम से पहले दो या तीन घंटे अभ्यास कर पाने के बाद सप्ताहांत में वे लगभग पांच घंटे अभ्यास में बिताती थी।

भारतीय महिलाओं के आगे शारीरिक फिटनेस का एक उत्साहवर्धक मानदंड प्रस्थापित करने के लिए, सलोनी पठानिया, हमें, ‘टीम भारतीयन्स’को आप पर गर्व है!

#Bharatiyans

Content developed by Bharatiyans for spreading Positivity and Inspirations through Positive News in India i.e. Bharat , to ensure the fulfillment of the dream foreseen by Dr. APJ Abdul Kalam in his ‘Mission 2020’ .

कृष्णा धारासूरकर

टीम भारतीयन्स

बातमी सौजन्य

इंडियन एक्स्प्रेस